Chwilio ffurf

लूका 12

1" इतने में जब हज़ारों आदमियों की भीड़ लग गई, यहाँ तक कि एक दुसरे पर गिरा पड़ता था, तो उसने सबसे पहले अपने शागिर्दों से ये कहना शुरू' किया, ""उस खमीर से होशियार रहना जो फरीसियों की रियाकारी है |" 2क्यूँकि कोई चीज़ ढकी नहीं जो खोली न जाएगी, और न कोई चीज़ छिपी है जो जानी न जाएगी | 3इसलिए जो कुछ तुम ने अंधेरे में कहा है वो उजाले में सुना जाएगा; और जो कुछ तुम ने कोठरियों के अन्दर कान में कहा है, छतों पर उसका एलान किया जाएगा |” 4" ""मगर तुम दोस्तों से मैं कहता हूँ कि उनसे न डरो जो बदन को कत्ल करते हैं, और उसके बा'द और कुछ नहीं कर सकते """ 5लेकिन मैं तुम्हें जताता हूँ कि किससे डरना चाहिए, उससे डरो जिसे इख़्तियार है कि कत्ल करने के बा'द जहन्नुम में डाले; हाँ, मैं तुम से कहता हूँ कि उसी से डरो | 6क्या दो पैसे की पाँच चिड़िया नहीं बिकती? तो भी खुदा के सामने उनमें से एक भी फ़रामोश नहीं होती | 7बल्कि तुम्हारे सिर के सब बाल भी गिने हुए है; डरो, मत तुम्हारी कद्र तो बहुत सी चिड़ियों से ज़्यादा है | 8" ""और मैं तुम से कहता हूँ कि जो कोई आदमियों के सामने मेरा इकरार करे, इब्न-ए-आदम भी खुदा के फरिश्तों के सामने उसका इकरार करेगा |""" 9मगर जो आदमियों के सामने मेरा इन्कार करे, खुदा के फरिश्तों के सामने उसका इन्कार किया जाएगा | 10" ""और जो कोई इब्न-ए-आदम के ख़िलाफ़ कोई बात कहे, उसको मु'आफ़ किया जाएगा; लेकिन जो रूह-उल-कुद्दूसके हक में कुफ्र बके, उसको मु'आफ़ न किया जाएगा |""" 11" ""और जब वो तुम को 'इबाद्तखानों में और हाकिमों और इख्तियार वालों के पास ले जाएँ, तो फ़िक्र न करना कि हम किस तरह या क्या जवाब दें या क्या कहें |""" 12" क्यूँकि रूह-उल-कुद्दूस उसी वक़्त तुम्हें सिखा देगा कि क्या कहना चाहिए |""" 13" ""फिर भीड़ में से एक ने उससे कहा, ""ऐ उस्ताद ! मेरे भाई से कह कि मेरे बाप की जायदाद का मेरा हिस्सा मुझे दे |""" 14" उसने उससे कहा, ""मियाँ ! किसने मुझे तुम्हारा मुन्सिफ या बाँटने वाला मुकर्रर किया है?""" 15" और उसने उनसे कहा, ""खबरदार ! अपने आप को हर तरह के लालच से बचाए रख्खो, क्यूँकि किसी की ज़िन्दगी उसके माल की ज्यादती पर मौकूफ नहीं |""" 16" और उसने उनसे एक मिसाल कही, ""किसी दौलतमन्द की ज़मीन में बड़ी फस्ल हुई |""" 17पस वो अपने दिल में सोचकर कहने लगा, 'मैं क्या करूँ?क्यूँकि मेरे यहाँ जगह नहीं जहाँ अपनी पैदावार भर रख्खूँ?' 18उसने कहा, 'मैं यूँ कहूँगा कि अपनी कोठियाँ ढा कर उनसे बड़ी बनाऊँगा; 19और उनमें अपना सारा अनाज और माल भर दूंगा और अपनी जान से कहूँगा, कि ऐ जान ! तेरे पास बहुत बरसों के लिए बहुत सा माल जमा' है; चैन कर, खा पी खुश रह |' 20मगर ख़ुदा ने उससे कहा, 'ऐ नादान ! इसी रात तेरी जान तुझ से तलब कर ली जाएगी, पस जो कुछ तू ने तैयार किया है वो किसका होगा?' 21ऐसा ही वो शख्स है जो अपने लिए खज़ाना जमा' करता है, और खुदा के नज़दीक दौलतमन्द नहीं 22" फिर उसने अपने शागिर्दों से कहा, ""इसलिए मैं तुम से कहता हूँ कि अपनी जान की फिक्र न करो कि हम क्या खाएँगे, और न अपने बदन की कि क्या पहनेंगे |""" 23क्यूँकि जान खुराक से बढ़ कर है और बदन पोशाक से | 24परिंदों पर गौर करो कि न बोते हैं और न काटते, न उनके खत्ता होता है न कोठी; तोभी खुदा उन्हें खिलाता है | तुम्हारी कद्र तो परिन्दों से कहीं ज़्यादा है | 25तुम में ऐसा कोन है जो फ़िक्र करके अपनी 'उम्र में एक घड़ी बढ़ा सके? 26पस जब सबसे छोटी बात भी नहीं कर सकते, तो बाक़ी चीज़ों की फ़िक्र क्यूँ करते हो? 27सोसन के दरख्तों पर गौर करो कि किस तरह बढ़ते है; वो न मेहनत करते हैं न कातते हैं, तोभी मैं तुम से कहता हूँ कि सुलेमान भी बावजूद अपनी सारी शान-ओ-शौकत के उनमें से किसी की तरह मुलब्बस न था | 28पस जब ख़ुदा मैदान की घास को जो आज है कल तन्दूर में झोंकी जाएगी, ऐसी पोशाक पहनाता है; तो ऐ कम ईमान वालो ! तुम को क्यूँ न पहनाएगा? 29और तुम इसकी तलाश में न रहो कि क्या खाएँगे या क्या पीएँगे, और न शक्की बनो | 30क्यूँकि इन सब चीज़ों की तलाश में दुनिया की कौमें रहती हैं, लेकिन तुम्हारा बाप जानता है कि तुम इन चीज़ों के मुहताज हो | 31हाँ, उसकी बादशाही की तलाश में रहो तो ये चीज़ें भी तुम्हें मिल जाएँगी | 32" ""ऐ छोटे गल्ले, न डर; क्यूँकि तुम्हारे बाप को पसन्द आया कि तुम्हें बादशाही दे |" 33अपना माल अस्बाब बेचकर खैरात कर दो, और अपने लिए ऐसे बटवे बनाओ जो पुराने नहीं होते; या'नि आसमान पर ऐसा खज़ाना जो खाली नही होता, जहाँ चोर नज़दीक नहीं जाता, और कीड़ा ख़राब नहीं करता | 34क्यूँकि जहाँ तुम्हारा खज़ाना है, वहीं तुम्हारा दिल भी रहेगा | 35" ""तुम्हारी कमरें बँधी रहें और तुम्हारे चराग़ जलते रहें |" 36और तुम उन आदमियों की तरह बनो जो अपने मालिक की राह देखते हों कि वो शादी में से कब लौटेगा, ताकि जब वो आकर दरवाज़ा खटखटाए तो फ़ौरन उसके लिए खोल दें | 37मुबारक है वो नौकर जिनका मालिक आकर उन्हें जागता पाए; मैं तुम से सच कहता हूँ कि वो कमर बाँध कर उन्हें खाना खाने को बिठाएगा, और पास आकर उनकी ख़िदमत करेगा | 38अगर वो रात के दूसरे पहर में या तीसरे पहर में आकर उनको ऐसे हाल में पाए, तो वो नौकर मुबारक हैं | 39लेकिन ये जान रखो कि अगर घर के मालिक को मा'लूम होता कि चोर किस घड़ी आएगा तो जागता रहता और अपने घर में नकब लगने न देता | 40" तुम भी तैयार रहो; क्यूँकि जिस घड़ी तुम को गुमान भी न होगा, इब्ने-ए-आदम आ जाएगा |""" 41" पतरस ने कहा,"" ऐ खुदावन्द, तू ये मिसाल हम ही से कहता है या सबसे |""" 42" खुदावन्द ने कहा, ""कौन है वो ईमानदार और 'अक्लमन्द, जिसका मालिक उसे अपने नौकर चाकरों पर मुकर्रर करे हर एक की ख़ुराक वक़्त पर बाँट दिया करे |" 43मुबारक है वो नौकर जिसका मालिक आकर उसको ऐसा ही करते पाए | 44मैं तुम से सच कहता हूँ ,कि वो उसे अपने सारे माल पर मुख़्तार कर देगा | 45लेकिन अगर वो नौकर अपने दिल में ये कहकर मेरे मालिक के आने में देर है, गुलामों और लौंडियों को मारना और खा पी कर मतवाला होना शुरू' करे | 46तो उस नौकर का मालिक ऐसे दिन, कि वो उसकी राह न देखता हो, आ मौजूद होगा और खूब कोड़े लगाकर उसे बेईमानों में शामिल करेगा | 47और वो नौकर जिसने अपने मालिक की मर्ज़ी जान ली, और तैयारी न की और न उसकी मर्ज़ी के मुताबिक़ 'अमल किया, बहुत मार खाएगा | 48मगर जिसने न जानकर मार खाने के काम किए वो थोड़ी मार खाएगा; और जिसे बहुत दिया गया उससे बहुत तलब किया जाएगा, और जिसे बहुत सौंपा गया उससे ज्यादा तलब करेंगे | 49" ""मैं ज़मीन पर आग भड़काने आया हूँ, और अगर लग चुकी होती तो मैं क्या ही खुश होता |""" 50लेकिन मुझे एक बपतिस्मा लेना है, और जब तक वो हो न ले मैं बहुत ही तंग रहूँगा | 51क्या तुम गुमान करते हो कि मैं ज़मीन पर सुलह कराने आया हूँ? मैं तुम से कहता हूँ कि नहीं, बल्कि जुदाई कराने | 52क्यूँकि अब से एक घर के पाँच आदमी आपस में दुश्मनी रख्खेंगे, दो से तीन और तीन से दो | 53" बाप बेटे से दुश्मनी रख्खेगा और बेटा बाप से, सास बहु से और बहु सास से |""" 54" फिर उसने लोगों से भी कहा, ""जब बादल को पच्छिम से उठते देखते हो तो फ़ौरन कहते हो कि पानी बरसेगा, और ऐसा ही होता है;" 55और जब तुम मा'लूम करते हो कि दख्खिना चल रही है तो कहते हो कि लू चलेगी, और ऐसा ही होता है | 56ऐ रियाकारो ! ज़मीन और आसमान की सूरत में फर्क करना तुम्हें आता है, लेकिन इस ज़माने के बारे मे फर्क करना क्यूँ नहीं आता? 57" ""और तुम अपने आप ही क्यूँ फैसला नहीं कर लेते कि ठीक क्या है?""" 58जब तू अपने दुशमन के साथ हाकिम के पास जा रहा है तो रास्ते में कोशिस करके उससे छूट जाए, ऐसा न हो कि वो तुझको फैसला करने के पास खींच ले जाए, और फैसला करने वाला तुझे सिपाही के हवाले करे और सिपाही तुझे कैद में डाले | 59" मैं तुझ से कहता हूँ कि जब तक तू दमड़ी-दमड़ी अदा न कर देगा वहाँ से हरगिज़ न छूटेगा |"""

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index